Abhrak Bhasma Sahastraputi

Indication: A special drug for diseases caused by liver, lung and kidney.

Dose:  125 mg to 250 mg. twice a day or as directed by the Physician.

Available in: 1 gm., 2.5 gm. & 500 mg.

 

अभ्रक भस्म (शहस्त्रपुटी)

गुणधर्म: फेंफड़े, यकृत और मन्दाग्नि से उत्पन्न रोगों की विषेष गुणकारी औषधि है।

मात्रा: साधारण भस्म पूरी उम्र वालों को बलाबल देखकर 125 मि.ग्रा. से 250 मि.ग्रा. (1 से 2 रत्ती तक) दिन में 2 से 3 बार मधु या रोगानुसार अनुपान विषेष के साथ देनी चाहिए। किन्तु शतपुटी और सहस्त्रपुटी अभ्रक की मात्रा आधी से एक रत्ती निष्चित की गई है।

Category:

Indication: A special drug for diseases caused by liver, lung and kidney.

Dose:  125 mg to 250 mg. twice a day or as directed by the Physician.

Available in: 1 gm., 2.5 gm. & 500 mg.

 

अभ्रक भस्म (शहस्त्रपुटी)

गुणधर्म: फेंफड़े, यकृत और मन्दाग्नि से उत्पन्न रोगों की विषेष गुणकारी औषधि है।

मात्रा: साधारण भस्म पूरी उम्र वालों को बलाबल देखकर 125 मि.ग्रा. से 250 मि.ग्रा. (1 से 2 रत्ती तक) दिन में 2 से 3 बार मधु या रोगानुसार अनुपान विषेष के साथ देनी चाहिए। किन्तु शतपुटी और सहस्त्रपुटी अभ्रक की मात्रा आधी से एक रत्ती निष्चित की गई है।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Abhrak Bhasma Sahastraputi”

Your email address will not be published. Required fields are marked *