Agnitundi Bati

Kuchala-Pradhan of Ayurveda is useful in these diseases, it is good indigestion, stomach ache, and helps in reducing torsion in the stomach, etc. It also has an effect on physical and mental dysfunction and urinary tract and gives strength to the heart. And it works well in disability and chronic wind disorder after a disease. It is also beneficial in Krimi rog and Vishvikar disorders.

 

आयुर्वेद का कुचला-प्रधान यह मंदाग्नि व मूत्रल रोगों में उपयोगी है इससे अग्निमांद्य, अजीर्ण, पेट दर्द, आध्यमान शूल, मरोड़ आदि अच्छे होते हैं। शारीरिक एवं मानसिक शिथिलता व मूत्रपिण्ड पर भी इसका प्रभाव होता है एवं हृदय को बल देता है। तथा किसी रोग के बाद आई हुई अशक्ति एवं जीर्ण वायु विकार में अच्छा काम करती है। कृमिरोग एवं विष विकार में भी लाभदायक है।

Indication:

Kuchala-Pradhan of Ayurveda is useful in these diseases, it is good indigestion, stomach ache, and helps in reducing torsion in the stomach, etc. It also has an effect on physical and mental dysfunction and urinary tract and gives strength to the heart. And it works well in disability and chronic wind disorder after a disease. It is also beneficial in Krimi rog and Vishvikar disorders.

Dose: 1 to 2 tablets in warm water, lemon juice, and 2-2 tablets Gaisantak Bati both times in a day after meals. In Mandagni and abdominal diseases, Sharmayu’s Kumari Asav consumption is 20 to 30 ml, In Vatvikar best with Maharashnadi Kada in more than sufficient or as directed by the Physician.

Available in: 80 & 40 Tab.

अग्नितुण्डी बटी

आयुर्वेद का कुचला-प्रधान यह मंदाग्नि व मूत्रल रोगों में उपयोगी है इससे अग्निमांद्य, अजीर्ण, पेट दर्द, आध्यमान शूल, मरोड़ आदि अच्छे होते हैं। शारीरिक एवं मानसिक शिथिलता व मूत्रपिण्ड पर भी इसका प्रभाव होता है एवं हृदय को बल देता है। तथा किसी रोग के बाद आई हुई अशक्ति एवं जीर्ण वायु विकार में अच्छा काम करती है। कृमिरोग एवं विष विकार में भी लाभदायक है।

मात्रा: 1 से 2 टेब.  तक गर्म पानी, नीबू रस एवं 2-2 टेबलेट शर्मायु गैसान्तक बटी भोजन के बाद दोनों समय। मन्दाग्नि और उदर रोगों मे शर्मायु कुमारी आसव 20 से 30 मिली, वात विकार में महारास्नादि काढ़ा के साथ उत्तम है। अथवा चिकित्सक के परामर्शानुसार प्रयोग करें।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Agnitundi Bati”

Your email address will not be published. Required fields are marked *