Jai Mangal Ras (Swarna Yukt)

Indication: Extremely proven Medicine for chronic fever and difficult fevers.

Dose: 1-1 Tablet twice a day with Jeera churna or Giloy satwa and Madhurika or as directed by the Physician.

Available in: 5, 10 & 25 Tabs.

 

जय मंगल रस – (स्व.यु.)

गुणधर्म:यह सभी प्रकार के पुराने बुखार प्रधानतः जीर्ण ज्वर में इससे विशेष लाभ होता है, साथ ही हृदय, मस्तिष्क, फुफ्फुस, मूत्र पिण्ड पर लाभकारी है। धातु गत ज्वर व उसके उपद्रवों को शान्तकर, शारीरिक -मानसिक शान्ति प्रदान करता है, बल-वीर्य वर्धक व श्रेष्ठ रसायन है।

मात्रा: 1-1 टेबलेट दिन मे दो बार जीरा चूर्ण या गिलोय सत्व और मधुरिका के साथ या चिकित्सक के परामर्शानुसार।

Category:

Indication: Extremely proven Medicine for chronic fever and difficult fevers.

Dose: 1-1 Tablet twice a day with Jeera churna or Giloy satwa and Madhurika or as directed by the Physician.

Available in: 5, 10 & 25 Tabs.

 

जय मंगल रस – (स्व.यु.)

गुणधर्म:यह सभी प्रकार के पुराने बुखार प्रधानतः जीर्ण ज्वर में इससे विशेष लाभ होता है, साथ ही हृदय, मस्तिष्क, फुफ्फुस, मूत्र पिण्ड पर लाभकारी है। धातु गत ज्वर व उसके उपद्रवों को शान्तकर, शारीरिक -मानसिक शान्ति प्रदान करता है, बल-वीर्य वर्धक व श्रेष्ठ रसायन है।

मात्रा: 1-1 टेबलेट दिन मे दो बार जीरा चूर्ण या गिलोय सत्व और मधुरिका के साथ या चिकित्सक के परामर्शानुसार।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Jai Mangal Ras (Swarna Yukt)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *