Prasarini Tail

Indication: To promote circulation in the body and tones-up the muscles useful in Sciatica, Fracture, Rheumatism and paraplegia etc.

Note: Clean hands after use.

Available in: 50, 100, 200, & 500 ml.

 

प्रसारिणी तैलम्

गुणधर्म: यह तेल गृध्रसि, हड्डी टूटना, जोड़ों का दर्द, लंगड़ापन आदि में गुणकारी है। यह नसों में रक्त संचार को बढ़ाता है तथा मांसपेशियों की कमजोरी को दूर करता हैं

नोट: प्रयोग के बाद हाथों को अच्छी तरह धो लें।

Indication: To promote circulation in the body and tones-up the muscles useful in Sciatica, Fracture, Rheumatism and paraplegia etc.

Note: Clean hands after use.

Available in: 50, 100, 200, & 500 ml.

 

प्रसारिणी तैलम्

गुणधर्म: यह तेल गृध्रसि, हड्डी टूटना, जोड़ों का दर्द, लंगड़ापन आदि में गुणकारी है। यह नसों में रक्त संचार को बढ़ाता है तथा मांसपेशियों की कमजोरी को दूर करता हैं

नोट: प्रयोग के बाद हाथों को अच्छी तरह धो लें।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Prasarini Tail”

Your email address will not be published. Required fields are marked *