Pushpadhanwa Ras

Indication:

This Ras is a very aphrodisiac, semen, and power enhancer. It provides good benefits in premature ejaculation, sensory dysfunction, semen-vascular pulse, and testicular dysfunction. By this, semen gets enlarged and stagnation occurs.

Beneficial for both men and women. It removes Impotence.

 

Dose: 1 to 2 tablets twice a day after meals with cream, butter, milk, or honey or as directed by the physician.

Available in: 5 gm. and 10 gm.

 

पुष्पधन्वा रस

गुणधर्म:

यह रस अत्यन्त कामोत्तेजक बल, वीर्य एवं शक्तिवर्द्धक है। यह शीघ्रपतन, इन्द्रिय की शिथिलता, वीर्य-वाहिनी नाड़ियांे एवं अण्डकोष की शिथिलता जन्य ध्वजभंग (नामर्दी) आदि में अच्छा लाभ करता है। इससे वीर्य की वृद्धि होकर स्तम्भन एवं बाजीकरण होता है। अति स्त्री प्रसंग मे पैदा हुई नपुंसकता में महोपकारी है। स्त्रियों के गर्भाशय के योग्य विकास न होने के कारण बन्धत्व पर यह उत्तम कार्य करता है। वयस्क हो जाने पर भी स्तन अवयवों का पूर्ण विकास न होने पर इसका प्रयोग लाभदायक होता है। संक्षेपतः- यह स्त्री और पुरुष दोनों के लिये लाभदायक है। बाजीकरण के लिये इसका प्रयोग अवश्य करना चाहिये।

मात्रा: 1 से 2 गोली तक दिन में दो बार मलाई, मक्खन, दूध या विषम भाग धी और मधु से नपुंसकता (नामर्दी) शीध्रपतन आदि मे शर्मायु स्वर्ण केसरी के साथ सुबह-शाम लेकर दूध पीना, भोजन के बाद अश्वगंधारिष्ठ पीना। शरीर में श्री गोपाल तेल का मर्दन करना रात में मूसली पाक 24 ग्राम दूध से लेना विशेष लाभदायक है

Category:

Indication:

This Ras is a very aphrodisiac, semen, and power enhancer. It provides good benefits in premature ejaculation, sensory dysfunction, semen-vascular pulse, and testicular dysfunction. By this, semen gets enlarged and stagnation occurs.

Beneficial for both men and women. It removes Impotence.

 

Dose: 1 to 2 tablets twice a day after meals with cream, butter, milk, or honey or as directed by the physician.

Available in: 5 gm. and 10 gm.

 

पुष्पधन्वा रस

गुणधर्म:

यह रस अत्यन्त कामोत्तेजक बल, वीर्य एवं शक्तिवर्द्धक है। यह शीघ्रपतन, इन्द्रिय की शिथिलता, वीर्य-वाहिनी नाड़ियांे एवं अण्डकोष की शिथिलता जन्य ध्वजभंग (नामर्दी) आदि में अच्छा लाभ करता है। इससे वीर्य की वृद्धि होकर स्तम्भन एवं बाजीकरण होता है। अति स्त्री प्रसंग मे पैदा हुई नपुंसकता में महोपकारी है। स्त्रियों के गर्भाशय के योग्य विकास न होने के कारण बन्धत्व पर यह उत्तम कार्य करता है। वयस्क हो जाने पर भी स्तन अवयवों का पूर्ण विकास न होने पर इसका प्रयोग लाभदायक होता है। संक्षेपतः- यह स्त्री और पुरुष दोनों के लिये लाभदायक है। बाजीकरण के लिये इसका प्रयोग अवश्य करना चाहिये।

मात्रा: 1 से 2 गोली तक दिन में दो बार मलाई, मक्खन, दूध या विषम भाग धी और मधु से नपुंसकता (नामर्दी) शीध्रपतन आदि मे शर्मायु स्वर्ण केसरी के साथ सुबह-शाम लेकर दूध पीना, भोजन के बाद अश्वगंधारिष्ठ पीना। शरीर में श्री गोपाल तेल का मर्दन करना रात में मूसली पाक 24 ग्राम दूध से लेना विशेष लाभदायक है

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Pushpadhanwa Ras”

Your email address will not be published. Required fields are marked *