Sarwajwarhar Lauh Brihat (S.Y.)

Indication: All types of fever or Chronic fever and Servable in Anemia.

Dose: 1-2 Tablet twice a day with Madhurika or as directed by the Physician.

Available in:  5, 10 & 25 Tabs.

 

सर्वज्वरहर लौह-बृहत  (स्व.यु.)

गुणधर्म: सभी प्रकार के ज्वर इस दवा के सेवन से नष्ट होते हैं। यह शरीर में घुसे जीर्ण ज्वर विषम ज्वर (मलेरिया) आदि में कीटाणुओं को नष्ट कर ताप का समन करता है। वातिक पैत्तिक, श्लैष्मिक, सन्निपातिक तथा यकृत प्लीहा वृद्धि आदि किसी कारण से पैदा हुए ज्वर को नष्ट कर देता हैं ज्वर के साथ होने वाले उपद्रव जैसे – कास, श्वास व अतिसार में लाभकारी होने के साथ आंत व हृदय की शक्ति को बढ़ाता है।

मात्रा: 1-1 टेबलेट सुबह शाम मधुरिका से या चिकित्सक के परामर्शानुसार।

Category:

Indication: All types of fever or Chronic fever and Servable in Anemia.

Dose: 1-2 Tablet twice a day with Madhurika or as directed by the Physician.

Available in:  5, 10 & 25 Tabs.

 

सर्वज्वरहर लौह-बृहत  (स्व.यु.)

गुणधर्म: सभी प्रकार के ज्वर इस दवा के सेवन से नष्ट होते हैं। यह शरीर में घुसे जीर्ण ज्वर विषम ज्वर (मलेरिया) आदि में कीटाणुओं को नष्ट कर ताप का समन करता है। वातिक पैत्तिक, श्लैष्मिक, सन्निपातिक तथा यकृत प्लीहा वृद्धि आदि किसी कारण से पैदा हुए ज्वर को नष्ट कर देता हैं ज्वर के साथ होने वाले उपद्रव जैसे – कास, श्वास व अतिसार में लाभकारी होने के साथ आंत व हृदय की शक्ति को बढ़ाता है।

मात्रा: 1-1 टेबलेट सुबह शाम मधुरिका से या चिकित्सक के परामर्शानुसार।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Sarwajwarhar Lauh Brihat (S.Y.)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *